सीकर: बाराती बनकर किया 5 किलो सोना लूटने का इंतजार, गाड़ी नंबर भूलकर खा गए गच्चा और लूट ली दूसरी कार

class="adsbygoogle" style="background:none;display:inline-block;max-width:800px;width:100%;height:250px;max-height:250px;" data-ad-client="ca-pub-7665904324993199" data-ad-slot="5413907774" data-ad-format="auto" data-full-width-responsive="true">

आजकल राजस्थान / सीकर,


16 अप्रेल की रात को भैरूजी मोड़ के पास लूट की वारदात को अंजाम देने आए पांचों शातिर आरोपी बाराती बनकर आए थे और यहां पास में हो रही शादी के बहाने पांच किलो सोना  लेकर आ रही कार का इंतजार करते रहे। ताकि किसी को शक नहीं हो और वे घटना को अंजाम देकर फरार हो सकें। लेकिन, एनवक्त पर सोना लेकर आ रही कार के नंबर ये लोग भूल गए और धोखे से दूसरी कार को इन्होंने निशाना बना लिया।

जिसके बाद वे पकड़ में आ गए और पुलिस  ने वारदात के मास्टर माइंड सुरेंद्र चलका सहित पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। जिनमें एक अपराधी कुलदीप उर्फ छोटिया पांच हजार का इनामी बदमाश भी शामिल है।  पुलिस अधीक्षक(सीकर) डा. अमनदीप सिंह कपूर ने बताया कि भैरूजी मोड़ पर दंपती की कार पर फायरिंग कर उनके गहने और नगदी लूटने वाले पांचों आरोपी सुरेंद्र, कुलदीप, शौकत, सलमान व देवकरण उर्फ बबलू को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपी राजमार्ग पर लूट करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह से जुड़े हुए हैं। इनमें मुख्य आरोपी सुरेंद्र चलका 2013 में जयपुर में हुई नौ करोड़ की गोल्ड सुख डकैती का भी मुख्य साजिशकर्ता रह चुका है। ये अपराधी तस्करी का सोना, हवाला की राशि लाने ले जाने वालों को लूट का शिकार बनाते हैं और इसलिए ज्यादातर हाइवे पर सक्रिय रहते हैं।

इनमें ढाणी तुर्काणी जोहड़ी खिरोड़ के कुलदीप उर्फ छोटिया पर हथियार, मारपीट, अपहरण व डकैती सहित अन्य अपराध के छह मुकदमे, बलारा के चलका की ढाणी के सुरेंद्र चलका पर सात मुकदमे, अंबेडकर नगर सीकर के रहने वाले शौकत पर छह मुकदमे विभिन्न धाराओं के दर्ज हैं। इन पांचों आरोपियों को मंगलवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा और पुलिस रिमांड पर मांगा जाएगा। ताकि लूट के  दौरान काम में लिए गए हथियार, कार व दंपती से लूटी गई नगदी व गहने बरामद किए जा सकें। आपको बता दे कि लोसल इलाके के जाना गांव निवासी सुस्मिता उसका पति विजय कुमार तथा परिवार के सदस्य कुलदीप, पंकज व कार का चालक प्रकाश कार लेकर वापस लोयल गांव से लौट रहे थे। भैरूजी स्टेंड के पास इन पांचों आरोपियों ने फायर कर अपनी कार से इनकी कार को टक्कर मारकर पलटी खवा दी थी और इसके बाद कार की डिग्गी में रखा बेग जिसमें करीब 40-45 हजार रुपए नगद तथा सुस्मिता के लाखों रुपए के गहने लूटकर फरार हो गए थे।


स्थानीय भाषा से आए पकड़ में

लूट की इस घटना के बाद एएसपी देवेंद्र शर्मा के नेतृत्व में उपअधीक्षक कमल सिंह चौहान, दादिया थानाधिकारी बृजेंद्र ङ्क्षसह राठौड़, रानोली एसएचओ पवन चौबे, रामगढ़ सेठान के एसएचओ हिम्मत सिंह व साइबर सैल के प्रभारी मनीष कुमार की टीम बनाई गई। दंपती ने इनको बताया कि वारदात करने वाले लोकल भाषा में बात कर रहे थे। पुलिस को पता लगा कि घटना में जिले के स्थानीय लोग ही शामिल हैं। इसके बाद स्थानीय बदमाशों को चिंह्ति कर पुलिस ने उनसे पूछताछ की तो शौकत के बारे में जानकारी मिली। इसके बाद घटना में शामिल बाकी आरोपियों तक भी पुलिस आसानी से पहुंच गई।
कुलदीप ने चलाई गोलीपुलिस पूछताछ में सामने आया है कि दंपती की कार पर इनामी बदमाश कुलदीप ने गोली चलाई थी। दो बार कार के टक्कर भी मारी थी। इससे पहले पांचों लोग घटना स्थल के पास हो रही एक लडक़ी की शादी में बाराती के बहाने रूके हुए थे। यहां खड़ी बाकी गाडिय़ों के पास इन लोगों ने अपनी दोनों गाड़ी खड़ी कर रखी थी।

यहां ये लोग एक सख्स से बात कर रहे थे। क्योंकि शौकत व बबलू उसको जानते थे। इधर, घटना के बाद जब पुलिस ने उसको दबोचा तो इनके नाम सामने आने पर पुलिस ने पांचों को दबोच लिया।
लूटनी थी दूसरी कारअपराधी शौकत ने अपने पांचों साथियों को सूचना दी थी कि आरजे 37 नंबर की कार दिल्ली से पांच किलो सोना लेकर आ रही है। इसके बाद मास्टर माइंड सुरेंद्र ने सोना लूटने की योजना बनाई और रूट के हिसाब से घटना स्थल के पास आकर खड़े हो गए तथा संबंधित कार का इंतजार करने लगे। इधर, जब दंपती परिवार की कार के नंबर भी आरजे 37 होने पर वे भ्रमित हो गए और सोना लेकर आने वाली कार के भरोसे इनको लूट लिया।


अलग-अलग हो गए आरोपीपुलिस अधीक्षक डा. अमनदीप सिंह कपूर व दादिया थानाधिकारी बृजेंद्र सिंह राठौड़ ने बताया कि घटना के बाद पांचों आरोपी गुंगारा से खिरोड़ की तरफ निकल गए थे। पकड़े जाने के डर से पांचों अलग-अलग हो गए थे। जिनको पुलिस की टीमों ने गिरफ्तार कर लिया। पीडि़त दंपती परिवार से इनकी शिनाख्ती करवाई जाएगी।

Advertisement
Advertisement

Comments are closed.