- Advertisement -
HomeNewsमध्यप्रदेश राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस-BJP के बीच दिलचस्प लड़ाई

मध्यप्रदेश राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस-BJP के बीच दिलचस्प लड़ाई

- Advertisement -

इस्तीफा देने वाले अधिकतर विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हैं, जिन्होंने कांग्रेस से मंगलवार को इस्तीफा देने के बाद बुधवार को भाजपा की सदस्यता ले ली.

राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मध्य प्रदेश में होने वाले चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच दिलचस्प लड़ाई देखने को मिलेगी, जहां कांग्रेस के कम से कम 22 विधायकों के बगावत के चलते कमलनाथ सरकार का भविष्य अधर में लटक गया है. वहीं, राज्य में तीन सीटों के लिए दोनों पार्टियों ने दो-दो प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं. दोनों पार्टियां विधायकों के संख्या बल के आधार पर आसानी से अपने एक-एक प्रत्याशियों को राज्यसभा भेज सकती है. जबकि तीसरी सीट के लिए कांग्रेस को बढ़त मिलती दिख रही थी लेकिन 22 विधायकों के विधानसभा से इस्तीफे के साथ संख्याबल के इस खेल में अनिश्चितता की स्थिति पैदा हो गई है.

इस्तीफा देने वाले अधिकतर विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हैं, जिन्होंने कांग्रेस से मंगलवार को इस्तीफा देने के बाद बुधवार को भाजपा की सदस्यता ले ली. राज्य की 228 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस विधायकों की संख्या आधिकारिक रूप से 114 है, जबकि पार्टी को चार निर्दलीय, दो बहुजन समाज पार्टी और एक विधायक का समर्थन भी हासिल है. बेंगलुरु में डेरा डाले अगर 22 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाता है या राज्यसभा चुनाव में मतदान के दौरान वे अनुपस्थित रहते हैं तो विधानसभा में सदस्यों की संख्या 206 रह जाएगी.

ऐसी स्थिति में कांग्रेस के पास सिर्फ 92 सदस्य होंगे,जबकि भाजपा के खेमें में 107 विधायक होंगे. उम्मीद है कि भाजपा के सिंधिया और कांग्रेस के दिग्विजय सिंह आसानी से जीत दर्ज कर लेंगे क्योंकि वे संभवत: अपनी-अपनी पार्टियों की पहली पसंद है. तीसरी सीट के लिए भाजपा के सुमेर सिंह सोलंकी और कांग्रेस के फूल सिंह बरैया के बीच मुकाबला होगा.सोलंकी की उम्मीदवारी की घोषणा मंगलवार को की गई और वह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े रहे हैं.वह संघ की विभिन्न योजनाओं के तहत राज्य के आदिवासी इलाको में काम कर रहे हैं.

आपको बता दे कि ग्वालियर से आने वाले कांग्रेस नेता फूल सिंह बरैया को पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के साथ राज्यसभा का प्रत्याशी घोषित किया है.बरैया लोकसभा चुनाव के पहले मार्च 2019 में कांग्रेस में शामिल हो गए थे.फूल सिंह बरैया ने भी गुरुवार को नामांकन फार्म ले लिया है और शुक्रवार को वह पर्चा दाखिल करेंगे.

फूल सिंह बरैया कांग्रेस में शामिल होने से पहले बहुजन संघर्ष दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे.वह लोकसभा चुनावों के पहले कमलनाथ की मौजूदगी में अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए थे.बरैया किसी ज़माने में बहुजन समाज पार्टी के साथ भी रहे हैं.कमलनाथ के कामों की तारीफ करने वाले बरैया दलित वर्ग से आते हैं और भाजपा के डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी को राज्यसभा प्रत्याशी बनाने के कारण कांग्रेस ने बरैया को अपना उम्मीदवार बनाया है.हालांकि मप्र में जारी सियासी घमासान के बीच विधायकों की संख्याबल देखें जो एक-एक सीट पर कांग्रेस और भाजपा को मिलेगी.तीसरी सीट को लेकर लड़ाई रहेगी,लेकिन ताजा हालात में राज्यसभा की तीसरी सीट के लिए घमासान दिख रहा है.

यह भी पढ़े : राज्यसभा सीट तो मिल गई लेकिन BJP की भीड़ में खो ना जाएं सिंधिया

Thought of Nation राष्ट्र के विचार
The post मध्यप्रदेश राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस-BJP के बीच दिलचस्प लड़ाई appeared first on Thought of Nation.

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -