- Advertisement -
HomeRajasthan NewsSikar newsखाटूश्यामजी पहुंचे मध्यप्रदेश के गृह मंत्री ने कहा भाजपा को कमलनाथ से...

खाटूश्यामजी पहुंचे मध्यप्रदेश के गृह मंत्री ने कहा भाजपा को कमलनाथ से छिंदवाड़ा वाला डर, ज्योतिरादित्य सिंधिया के सवाल पर दिया यह जवाब

- Advertisement -

सीकर. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में सियासी उठापटक के बाद जयपुर पहुंचे कमलनाथ सरकार (Madhya Pradesh Kamalnath Government) के विधायकों ने आज खाटूश्यामजी (Khatushyamji) के दर्शन किए। विधायक इसके लिए सुबह ही दिल्ली रोड स्थित रिसोर्ट से रवाना हो गए थे। करीब 11.30 बजे वह खाटूश्यामजी पहुंचे। यहां पहुंचते ही वह पहले एक होटल में रुके। जहां कुछ देर ठहरने के बाद वह खाटूश्यामजी के मंदिर पहुंचे। मंदिर में दर्शनों के बाद वह सीधे बस में बैठकर रवाना हो गए। इस दौरान कमलनाथ सरकार के गृह मंत्री बाला बच्चन (MP Home Minister Bala Bachchan) ने मीडिया से भी बात की। उन्होंने मध्यप्रदेश के सियासी उथल पुथल के बारे में कहा कि विपक्ष को कमलनाथ से डर है। विपक्ष को लगता है कि कमलनाथ कहीं पूरे मध्यप्रदेश को छिंदवाड़ा जैसा मॉडल क्षेत्र नहीं बना दे। फ्लोर टेस्ट में बहुमत साबित करने के सवाल पर कहा कि सभी विधायक मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ है और वह पहले से भी बड़ी संख्या में बहुमत साबित करेंगे। ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के भाजपा ज्वाइन करने के सवाल को लगभग टालते हुए उन्हेांने कहा कि ईश्वर उन्हें सद्बुद्धि दे।
सालासर के लिए होंगे रवानाकांग्रेस विधायक फिलहाल खाटूश्यामजी ही है। वह यहां लंच करेंगे। इसके बाद वह सालासर बालाजी के दर्शनों के लिए रवानगी लेंगे। इससे पहले खाटूश्यामजी दर्शनों के लिए वह कड़ी सुरक्षा में पहुंचे थे। जहां बाबा श्याम के जयकारे लगाते हुए सभी विधायकों ने श्याम सरकार के दर्शन किए।
यह है मामला कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने के बाद होर्स ट्रेडिंग से बचने के लिए मध्यप्रदेश के 86 कांग्रेस विधायकों को बुधवार को जयपुर भेजा गया था। यहां जयपुर दिल्ली रोड स्थित दो रिसॉर्ट में उनकी बाड़ाबंदी की गई है। खरीद फरोख्त के डर से इन्हें किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा। वहीं, इनकी सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।
114 सीटें जीती थी कांग्रेस नेमध्यप्रदेश में पिछले साल हुए चुनाव में कांग्रेस ने 114 सीटें जीती थीं जबकि 228 सदस्यीय विधानसभा में सरकार चलाने के लिए 116 विधायक होना जरूरी है। कांग्रेस को बसपा सहित निर्दलीय विधायकों ने समर्थन दे रखा है। लेकिन, ज्येातिरादित्य सिंधिया के साथ 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद बहुमत का आंकड़ा गड़बड़ा गया है।

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -