खाटूश्यामजी का लक्खी मेला आज से, जा रहे हैं तो जरूर जानें यह बातें

0
Advertisement
class="adsbygoogle" style="background:none;display:inline-block;max-width:800px;width:100%;height:250px;max-height:250px;" data-ad-client="ca-pub-7665904324993199" data-ad-slot="5413907774" data-ad-format="auto" data-full-width-responsive="true">

सीकर. बाबा श्याम का फाल्गुनी लक्खी मेला आज से शुरू हो गया है। 10 दिवसीय मेला 7 मार्च तक चलेगा। जिसमें देश- दुनियां से श्रद्धालु शीश के दानी को शीश नवाने पहुंचने लगे हैं। भक्त मेहमानों की सुख-सुविधा व सजावट के लिए खाटू नगरी बुधवार रातभर जगी रही। पालिका से लेकर मंदिर कमेटी व आमजन से लेकर प्रशासन तक खाटू नगरी को दुल्हन की तरह सजाने व व्यवस्था बनाने में जुटा रहा। सुंदर हुई श्याम नगरी में बाबा श्याम का भी हर दिन मनमोहक श्रृंगार होगा। खाटूनगरी का आकर्षण बढ़ाने के लिए सिंह द्वार भी जयपुर के शीश महल की तर्ज पर सजाया गया है। यहंा वह सारी जानकारी दी जा रही है, जो खाटूश्यामजी पहुंचने वालों के लिए बहुत जरूरी है।
रींगस रोड से होगा पैदल प्रवेश
खाटूश्यामजी कैसे भी पहुंचे। बाबा श्याम के दर्शनों के लिए रींगस रोड स्थित तोरण द्वार पहुंचना ही होगा। यहां से गुणगान नगर, बिजली ग्रेड, खटीकान मोहल्ला, केरपुरा तिराहे से लामिया तिराहे होतेे हुए चारण मैदान जिगजैग पहुंचना होगा। जिसे पार करने के बाद लखदातार मैदान स्थित जिगजैग को पार करना होगा। यहां से सर्विस लाइन के जरिये लाला मांगीलाल धर्मशाला होते हुए आप मुख्य मेला मैदान के जिगजैग पर पहुंचते हुए श्याम दरबार पहुंच सकेंगे।
वाहन है तो यूं जायें:
यदि आप सीकर या जयपुर से वाहन से खाटूश्यामजी पहुंच रहे हैं तो आपको रींगस रोड से खाटू में प्रवेश नहीं मिलेगा। इसके लिए आपको मंढा मोड से हनुमानपुरा होते हुए। जाने के लिए अलोदा व सांवलपुरा का रास्ते रहेंगे। हालांकि मेले में यह व्यवस्था एकबारगी नहीं है। भीड़ बढऩे के साथ यह व्यवस्था लागू होगी।
पहली बार होगी यह तीन व्यवस्थाएं
1. नए निकास द्वार से 40 फीसदी कम होगा दबाव: खाटूश्यामजी के दर्शनों के बाद निकास के लिए मंदिर में इस बार दो बड़े नए द्वार बनाये गए हैं। जो पिछले मेलों के निकास द्वार की तुलना में बड़े हैं। इससे श्रद्धालुओं की निकासी का दबाव 40 फीसदी तक कम होगा।
2. 40 बीघा में पार्किंग:वाहनों की पार्किंग के लिए 40 बीघा भूमि पर अतिरिक्त पार्किंग की व्यवस्था रहेगी। ं करीब आठ हजार चौपहिया वाहन एक साथ खड़े हो सकेंगे।
3. प्राइवेट सिक्योरिटी: मेले में सुरक्षा व्यवस्था के लिए श्याम मंदिर कमेटी की ओर से पहली बार 700 प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड भी बुलाये गए हैं। 80 होमगार्ड अलग से पार्किंग व्यवस्था में होंगे।
यूं होगी आपकी सुरक्षा
पुलिस जवान- 3000सीसीटीवी कैमरे- 350प्राइवेट सिक्योरिटी-800डीएफएमडी- 5एंबुलेंस -11दमकल -7
यह मिलेगी सुविधा
धर्मशाला- 300सेवा शिविर- 50 के करीबभंडारे- 300पानी-10 लाख लीटरमोबाइल टॉयलेट -200अस्थाई टॉयलेट-350पार्किंग प्लेस- 40 बीघाचिकित्सा शिविर- 3 दर्जनस्काउट गाइड-2300रोडवेज- 150अतिरिक्त मोबाइल टॉवर- 3
शुरू में सर्विस लाइन से दर्शन मेले का प्रवेश मार्ग रींगस रोड़ पर तोरण द्वार से होगा। भीड़ कम रहने पर चारण मैदान और लखदातार मैदान में बनाई गई सर्विस लाईन को ही काम में लिया जाएगा। भीड़ का दबाव बढते ही पहले लखदातार मैदान में जिगजैग के एक एक कर ब्लॉक को भरेंगे और उसके बाद चारण मैदान के पांच ब्लॉक का उपयोग होगा। सभी जीगजैग भरने पर रींगस खाटू मार्ग और मंढा खाटू मार्ग पर बैरियर से भीड़ को रोका जाएगा।

Advertisement
Related Posts
class="adsbygoogle" style="background:none;display:inline-block;max-width:800px;width:100%;height:200px;max-height:200px;" data-ad-client="ca-pub-7665904324993199" data-ad-slot="5413907774" data-ad-format="auto" data-full-width-responsive="true">
Advertisement
class="adsbygoogle" style="background:none;display:inline-block;max-width:800px;width:100%;height:200px;max-height:200px;" data-ad-client="ca-pub-7665904324993199" data-ad-slot="5413907774" data-ad-format="auto" data-full-width-responsive="true">

Leave A Reply

Your email address will not be published.