- Advertisement -
HomeNewsकौन है देशद्रोही,कौन नहीं,नाम और काम देखिए और फैसला कीजिए

कौन है देशद्रोही,कौन नहीं,नाम और काम देखिए और फैसला कीजिए

- Advertisement -

इस वक्त देशद्रोहियों कि जैसे फौज आ गई है.कभी कोई बिहार से गिरफ्तार किया जाता है.कभी कोई नन्हा देशद्रोही स्कूल से निकल आता है,तो कभी दिल्ली के शाहीन बाग में धरने पर बैठीं महिलाओं में देशद्रोही नजर आती हैं.

कभी मुंबई में नारे लगाने वाले देशद्रोही होते हैं,तो कभी यूपी में देशद्रोहियों का पूरा हुजूम सड़कों पर निकल आता है.कुल मिलाकर लंबी लिस्ट है.लेकिन एक लिस्ट और है, जिसपर आपकी राय जरूरी है.आप दोनों लिस्ट के नाम देखिए और तय कीजिए कौन देशद्रोही है, कौन नहीं? राजद्रोह/देशद्रोह कानून को भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 124ए के तहत परिभाषित किया गया है. इसके तहत, कोई जो भी बोले या लिखे गए शब्दों से, संकेतों से, दृश्य निरूपण से या दूसरों तरीकों से घृणा या अवमानना पैदा करता है या करने की कोशिश करता है या भारत में कानून सम्मत सरकार के प्रति वैमनस्य को उकसाता है या उकसाने की कोशिश करता है,तो वह सजा का भागी होगा.

पीएम Vs महात्मा गांधी का अपमान

कर्नाटक के बीदर में एक स्कूल.स्कूल के प्ले में 9 साल की बच्ची हिस्सा लेती है.नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कुछ पंक्तियां बोलती है.आरोप है कि बच्चों ने पीएम को लेकर भी कुछ अपशब्द कहे.इलाके के डिप्टी एसपी स्कूल में कई दफा बच्चों को एक तरफ ले जाकर घंटों पूछताछ कर रहे हैं.पुलिस राजद्रोह का मामला दर्ज करती है, बच्ची की मां और स्कूल की हेड टीचर को गिरफ्तार लेती है. 9 साल बच्ची की मां घरों में डेमोस्टिक हेल्प का काम करती है.उनके पति का देहांत हो चुका है.

बच्ची की मां और हेड टीचर देशद्रोही हैं

बीजेपी के नेता अनंत हेगड़े कहते हैं -आजादी के लिए महात्मा गांधी की लड़ाई  ‘ड्रामा’ थी.वो कहते हैं-अंग्रेजों ने कुंठित होकर आजादी दी थी.मेरा खून खौल उठता है,जब मैं इतिहास पढ़ता हूं.ऐसे लोग हमारे देश में महात्मा बन गए.काफी विरोध होने पर बीजेपी हेगड़े को कारण बताओ नोटिस जारी करती है.लेकिन…

हेगड़े देशद्रोही नहीं हैं

आगर-मालवा में 16 मई, 2019 को रोड शो के दौरान बीजेपी नेता प्रज्ञा ठाकुर ने पत्रकारों से कहा नाथूराम गोडसे देशभक्त थे,हैं और रहेंगे.आतंकवादी कहने वाले लोग स्वयं के गिरेबान में झांककर देखें, अबकी चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा. पार्टी ने उन्हें नोटिस थमाया. लेकिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वालीं …

प्रज्ञा देशद्रोही नहीं हैं.

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान ही देश के लिए शहादत देने वाले हेमंत करकरे के बारे में कहा – उनकी मौत इसलिए हुई क्योंकि मैंने सर्वनाश का श्राप दिया था. बीजेपी ने प्रज्ञा जांच बिठाई,नतीजा जो भी आज वो संसद में बैठती हैं,लेकिन…प्रज्ञा देशद्रोही नहीं हैं.सांसद बनने के बाद प्रज्ञा ठाकुर ने लोकसभा के अंदर नाथूराम को देशभक्त कहा. डीएमके सांसद ए राजा नकारात्मक मानसिकता के बारे में बात कर रहे थे.उन्होंने नाथूराम गोडसे के बयान का हवाला देते हुए पूछा कि गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या क्यों की? तभी प्रज्ञा अपनी सीट से खड़ी हो गईं और कहा-आप एक देशभक्त का उदाहरण नहीं दे सकते.

प्रज्ञा के बयान को लोकसभा के रिकॉर्ड से हटा दिया गया…लेकिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वालीं..प्रज्ञा देशद्रोही नहीं हैं. उन्हीं महात्मा गांधी को जेएनयू का छात्र शरजील इमाम फासिस्ट कहता है. वो कहता है कि चक्का जाम करो, असम को बाकी देश से काट दो..समझाया जाता है कि वो देश को बांटने की बात कह रहा है. देशद्रोह का मामला दर्ज होता है. वो जेल भेजा जाता है.

शरजील देशद्रोही है.

2018 में मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स ने संसद में एक आंकड़ा पेश किया था जिसके मुताबिक़ 2014 से 2016 के बीच 179 लोग सेडिशन के इल्ज़ाम में गिरफ्तार किये गए थे,लेकिन इन तीन सालों में सिर्फ 2 ही लोग दोषी करार दिए गए.बीजेपी के सांसद प्रवेश वर्मा कहते हैं – अगर 11 फरवरी को बीजेपी दिल्ली में सरकार बनाती है तो एक घंटे में शाहीन बाग खाली करा दिया जाएगा. आगे बोले- दिल्ली वाले जाग जाओ नहीं तो शाहीन बाग वाले घरों में घुसेंगे, आपकी बहनों और बेटियों को उठाएंगे और बलात्कार करेंगे.ये बयान दो समुदायों और देश को बांटने वाला नहीं है.

प्रवेश वर्मा देशद्रोही नहीं हैं.

मुंबई के आजाद मैदान में जेएनयू छात्र शरजील इमाम के समर्थन में कथित रूप से ‘राष्ट्र विरोधी’ नारे लगाने को लेकर मुंबई पुलिस 51 लोगों पर देशद्रोह का मामला दर्ज करती है.पुलिस उपायुक्त प्रणय अशोक के मुताबिक इनपर भारतीय दंड संहिता की धारा-124 ए (देशद्रोह), 153 बी (राष्ट्रीय अखंडता के प्रति पूर्वाग्रहपूर्ण बयान), 505 (लोगों को उकसाने के लिए दिया गया बयान), 34 (साझा इरादा) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ये 51 लोग देशद्रोही हैं.

दिल्ली की एक चुनावी रैली में देश के मंत्री अनुराग ठाकुर नारे लगवाते हैं- ”गोली मारो, गद्दारों को”. काफी आलोचना के बाद चुनाव आयोग महज 72 घंटे के लिए उनके चुनाव प्रचार पर रोक लगाता है. कुछ दिन बाद मंत्री जी फिर बयान देते हैं-11 तारीख को (जब दिल्ली में चुनाव नतीजे आने हैं) जब हमारी सरकार आएगी तो शाहीन बाग की सफाई शुरू हो जाएगी.पुलिस ने कोई मामला दर्ज नहीं किया है.

अनुराग ठाकुर देशद्रोही नहीं हैं.

पूर्वी दिल्ली में करावल नगर चौक पर चुनाव प्रचार के दौरान आदित्यनाथ योगी नागरिकता संशोधित कानून विरोधी प्रदर्शनकारियों पर निशाना साधते हुए कहते हैं– उनके (प्रदर्शनकारियों के) पूर्वजों ने भारत को बांटा,इसलिए उन्हें इस उभरते ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ से दिक्कत है. ये देश को बांटने वाला बयान नहीं है.

योगी जी देशद्रोही नहीं हैं.

दिल्ली में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा कहते हैं ये हमारी एकता की ताकत है. ऐसे ही एक रहना है. इकट्ठा रहना है. एक होकर वोट करना है. हम सबकी एकता से 20% वाली वोट बैंक की गंदी राजनीति की कब्र खुदकर रहेगी.ये देश को बांटने वाला बयान नहीं है.

कपिल मिश्रा देशद्रोही नहीं हैं.

लोकतंत्र की आत्मा है बोलने की आजादी, सवाल पूछने की आजादी, अंधविश्वास के खिलाफ सवाल खड़ा करने की आजादी. ये आजादी खत्म हुई और लोकतंत्र के खात्मे का डर. लेकिन सवाल उठाने वाले देशद्रोही हैं.सवाल उठाने को देशद्रोह बताने वाले देशद्रोही नहीं हैं.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2019 में 119 देशों की लिस्ट में भारत का नंबर 102.पाकिस्तान हमसे बेहतर स्थिति में 94 नंबर पर. दुनिया के टॉप 10 प्रदूषित शहरों में 8 अपने देश में. पानी की किल्लत वाले दुनिया के शहरों की लिस्ट में अपना चेन्नई नंबर 1.सबसे ज्यादा खुदकुशी करने वाले दुनिया के टॉप 10 देशों में भारत भी. कर्ज से परेशान किसानों की आत्महत्या जारी. ट्रैफिक जाम के मामले में दुनिया के टॉप 5 शहरों में 3 भारत में. भारत में इतनी बड़ी मंदी कि पूरी दुनिया पर इसका असर हो रहा है.देश में 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी.

गरीबी,भुखमरी,अशिक्षा,बेरोजगारी के लिए जिम्मेदार लोगदेशद्रोही नहींइन सबसे आजादी मांगने वाले देशद्रोही.

यह भी पढ़े : दिल्ली दंगों ने यह तो स्थापित कर ही दिया है कि केजरीवाल एक आदर्शहीन दक्षिणपंथी नेता हैं.

Thought of Nation राष्ट्र के विचार
The post कौन है देशद्रोही,कौन नहीं,नाम और काम देखिए और फैसला कीजिए appeared first on Thought of Nation.

- Advertisement -
- Advertisement -
Stay Connected
16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe
Must Read
- Advertisement -
Related News
- Advertisement -